आखिर क्यों है बैजनाथ पपरोला की जनता नगर पंचायत बैजनाथ से खफा बैजनाथ

आखिर क्यों है बैजनाथ पपरोला की जनता नगर पंचायत बैजनाथ से खफा

आखिर क्यों है बैजनाथ पपरोला की जनता नगर पंचायत बैजनाथ से खफा

बैजनाथ… (शुभम सूद)

नगर पंचायत बैजनाथ पपरोला द्वारा लोगों के मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है जिसका मुख्य कारण नगर पंचायत बैजनाथ पपरोला द्वारा जो कुडा कच्चरा इक्कठा किया जाता है उसे बिनवा नदी के घाट में फैंका जाता व उसे जलाया जाता व बहाया जाता है जिससे जल प्रदूषण, प्राकृतिक प्रदूषण व लोगों के स्वास्थ्य के साथ हो रहे अन्याय वारे।एन0जी0ओ0 लोक सेवा मंच आपसे निम्नलिखित आवेदन करना चाहती हैः-महोदय् उक्त नगर पंचायत द्वारा जो कूडा हर रोज इकत्र करके विनबा नदी के समीप पुराने राष्ट्रीय उच्च मार्ग के उपर रखती है सभी को विदित है उसे पिछले दिनों जब भारी बरसात थी उस समय स्वयं नगर पंचायत के आदेशो से बिनवा नदी में जीसीवी मशीन द्वारा हजारों टन कूडे के पहाड को पानी में बहा दिया गया जिससे जल प्रदूषण, प्राकृतिक प्रदूषण व लोगों के स्वास्थ्य के साथ हो अन्याय हुआ ओर जो गिनोना अपराध मानवता से रहित नगर पंचायत द्वारा करवाया गया वह इस क्षेत्र के लिए ही नही अपितु समस्त मानवता पर अघात है। महोदय् जी यह कार्य इस बार ही नगर पंचायत ने नही करवाया पहले भी कई बार कूडे जलाया गया, पानी में बहाया गया, इस बार तो हद हो गई सारे के सारे पहाड को ही बहा दिया गया। इस प्रकार के कृत्यो से एक स्थान ही प्रभावित नही होता है जहां-जहां जल जाऐगा वहां वहां प्लास्टिक के लिफाफे व अन्य अवशेष जो मानव व जीव जन्तुओं के लिए हानिकारक है क्योकि इस स्थान से लेकर जहां तक पानी जाता है कई पेयजल व सिंचाई योजनाएं चलती है व सभी प्रकार के जीव जन्तु पानी का उपयोग करते है दूषित पानी अपना प्रभाव पूर्ण प्राकृति पर छोडेगा जिससे कोई भी बच नही सकता। इस बारे शासन व प्रशासन कई योजनाऐं बनाती ओर कई प्रकार से लोगों को जागृत करके व प्राकृति को स्वस्थ्य रखने में कार्य करती है परन्तु स्वयं प्रशासन प्राकृति के विरूद इस प्रकार से लिप्त होगा तो समाज में किस प्रकार का सन्देश जाऐगा। महोदय् जी नगर पंचायत वर्ष 2017 से लगातार इस स्थान का अन्यायपूर्ण रूप से उपयोग कर रही है ओर लोगों को हर दिन कुडे कच्चरे की गंदगी से उत्पन प्रदुषणों का सामना पिछले 6 वर्षो से निरन्तर करना पड रहा है। इस विषय को पहले भी कई बार जब इस प्रकार से नगर पंचायत कुडे कच्चरे को जलाती व बहाती थी जिस बारे समाचार पत्रों के माध्यम से शासन व प्रशासन को समय -2 पर अवगत करवाया जाता था। जिला प्रदूषण नियन्त्रण वोर्ड द्वारा कर भी लगाया गया परन्तु उसके बाबजूद भी नगर पंचायत अपने अन्यायपूर्ण रवैये पर कायम रही।महोदय् जी जिस स्थान पर नगर पंचायत कूडा फैकती है उस स्थान के 10 से 20 मीटर के दायरे में बैजनाथ का ऐतिहासिक शिव मन्दिर, पवित्र खीर गंगा घाट, काली माता मन्दिर, शमशान घाट, चामुण्डा माता मन्दिर, सीता रमणी आश्रम व राष्ट्रिय उच्च मार्ग स्थित है जो कि बैजनाथ ़क्षेत्र के लिए अपमानजनक स्थिति है क्योकि हजारों पर्यटक व स्थानीय लोग इसी स्थान से प्रतिदिन आगमन करते है।महोदय् जी नगर पंचायत लोगों को गुमराह करने के लिए एक स्थान जो मिनी सचिवालय के प्रागण में कूडे के निष्पादन हेतू लगा रखा है जो कि इस क्षेत्र के लोगों को बैजनाथ का आईना बना हुआ है। करोडो की मशीन विनबा घाट पर उसका भी काई उपयोग नही है नगर पंचायत लाखो रूपये हर माह कूडे को उठाने हेतू दे रही है यदि इस प्रकार की नगर पंचायत की कार्य व्यवस्था धन राशी के दूरूउपयोग करने की है तो कहीं ना कहीं जनता व सरकार का ही नुकसान हो रहा है।महोदय् जी जो कार्य नगर पचंायत द्वारा बिनवा नदी पर कूडे कच्चरे को गिराने हेतू किया जा रहा है उसे बन्द करने हेतू दिंनाक 18.08.2023 को उपमण्डल अधिकारी बैजनाथ को ज्ञापन दिया गया था साथ ही उपमण्डल अधिकारी बैजनाथ मौका पर पहुचे व सचिव नगर पंचायत को आदेश दिए की इस स्थान पर कुडा कच्चरा नही फंैका जाए उसके बाबजूद भी कार्य बन्द नही हुआ। जिसकी सूचना महोदय् जी को उपमण्डल अधिकारी बैजनाथ के माध्यम से जारी सूचनार्थ पृ0संख्या 648-53एसडीबी-एम सी दिनांक 19.08.2023 को दी गई थी जिसकी प्रतिलिपि साथ सल्लगन है। महोदय् जी यदि नगर पचायंत बैजनाथ पपरोला बिनवा नदी के पास जो कुडे कच्चरे के कार्य को दिनांक 30.09.2023 से पहले-पहले बन्द नही करती है तो एनजीओ लोक सेवा मंच 07.10.2023 को धरना प्रर्दशन करेगी साथ ही इस पवित्र स्थान की पवित्रता हेतू कार्य करेगी। क्योकि उक्त बिषय को लेकर नगर पंचायत सचिव ने 01.09.2023 तक का समय मांगा था जो कि बीत चुका है। इसके बाबजूद भी नगर पंचायत उक्त स्थान का दुरूउपयोग कर रही है जो कि न्याय संगत नही है क्योकि उक्त स्थान कोई डम्पिंग साईट नही है यह स्थान लोगोें की आस्था , लोगो के स्वास्थ्य व प्राकृतिक शोषण से जुडा है। अतः महोदय् से निवेदन है कि नगर पंचायत बैजनाथ पपरोला को आदेश दिए जाए कि 30.09.2023 के बाद इस बिनवा घाट पर किसी भी प्रकार का कुडा कच्चरा ना फंैका जाए साथ ही इस स्थान पर रखी मशीनरी, शैड को हटाया जाए अर्थात उक्त स्थान को पूर्णतया खाली किया जाए अन्यथा एनजीओ लागों के मौलिक अधिकारों हेतू माननीय उच्च न्यायालय में याचिका दायर करेगी साथ ही 07.10.2023 को धरना प्रर्दशन करेगी जिसके लिए प्रशासन जिम्मेबार होगा।