‘जहां छिन गया था रोजगार वहां मुख्यातिथी बनकर पहुंची महिला प्रधान तो तालियों से गूंज उठा पंडाल‘‘

-वैश्विक महामारी कोरोना में मंडी जिला के निजी स्कूल में बकौल शिक्षिका रही महिला प्रधान शूचिका का अचानक छिन गया था रोजगार।

–चार साल बाद स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में बकौल मुख्यातिथी आमंत्रित कर स्कूल प्रबंधन ने बढ़ाया मान।

मंडी/जोगेंद्रनगर

कहते हैं कि जिंदगी में विकट परिस्थितियों में आए उतार चढ़ाव पर घबराने की बजाय उससे हम डटकर सामना करें तो निःसंदेह सफलता भी मिलती है। ऐसा ही एक वाक्य मंडी जिला में वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान शिक्षिका रही महिला प्रधान शूचिका के जीवन में पेश आया है। मंडी जिला के एक निजी स्कूल में चार साल पहले शिक्षिका रहकर अपने व अपने परिवार का जीवन यापन कर रही थी कोरोना काल की परिस्थितियों में वहां से जब अचानक पलायन करना पड़ा तो अजिविका पर भी संकट मंडरा गया और अब उसी स्कूल में लगभग चार साल बाद जब मुख्यातिथी के तौर पर शिरकत करने का मौका मिला तो स्वागत के लिए पंडाल में तालियां भी गूंज उठी। शनिवार को विकास खंड चौंतड़ा की तलकेहड़ पंचायत की प्रधान और जिला कांग्रेस महासचिव शूचिका प्रधान ने मंडी के संस्कृत सदन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहा कि जिंदगी में विकट परिस्थितियों में जब कोई भी उतार चढ़ाव आए तो उनसे घबराने की बजाय उसका डटकर सामना करना चाहिए। कहा कि साल 2020 में कोरोना काल के समय उन्हें भी निजी स्कूल से पलायन करना पड़ा था। लेकिन अब वह मंडी जिला की विकास

समिति के बीस सूत्रीय कार्यकारिणी में सदस्य के पद पर भी वह आसीन हो गई है। बकौल पंचायत प्रधान के पद पर काबिज होकर उन्होंने विभिन्न विकासात्मक कार्यों को भी धरातल पर उतारा है। अब मंडी जिला के विभिन्न विकासात्मक कार्यों में भी वह अपनी सहभागिता बढ़चढ़ कर देगी। निजी स्कूल के प्रधानाचार्य संतोष धवन ने बताया कि स्कूल में उनकी सेवाओं को याद रखते हुए उन्हें बकौल मुख्यातिथी आंमत्रित किया गया है। स्कूल के नन्हें विद्यार्थी गुनाक्षी, आदिति, युवान, अनाया, अंशिका, आदविक, नक्ष, अंशुमन, विभान, शिवांशी, आरिक, आदित भट्ट, वरूण वर्मा, काव्या, श्रेया, आयुष, दिव्यांश, नकेश, रूद्राक्ष, यशिता, सूर्यांश ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। स्कूल की अध्यापिका मोनिका गुप्ता, रेणू अरोडा, नवीन सैनी, ओंकार धवन, शिवम धवन, सविता शर्मा और भारती भी मौजूद रही।

फोटो-मंडी जिला के संस्कृत सदन में आयोजित कार्यक्रम में बकौल मुख्यातिथी अपने संबोधन में उपस्थित गणमान्य लोगों को संबोधित करती पंचायत प्रधान शूचिका और मेघावी विद्यार्थियों को सम्मानित करती शूचिका प्रधान।