दिव्यांग कमला देवी के लिए सहारा बनी मंडी रेडक्रॉस सोसायटी20 वर्षों से बिस्तर पर लाचारी में जी रही थीं 55 वर्षीय कमला देवी

मंडी, 13 फरवरी। बीते 20 वर्षों से बिस्तर पर लाचारी का जीवन जी रही मंडी जिले के शिलग गांव की कमला देवी के लिए जिला रेडक्रॉस सोसायटी मंडी एक मजबूत सहारा बनी है। रेडक्रॉस सोसाइटी कमला देवी के इलाज का खर्च वहन के साथ ही उन्हें सरकार की गरीब कल्याण की विभिन्न योजनाओं के लाभ की उपलब्धता भी सुनिश्चित करेगी।
जिला रेडक्रॉस सोसायटी के अध्यक्ष एवं उपायुक्त मंडी अपूर्व देवगन ने इसे लेकर रेडक्रॉस सोसायटी के सचिव को निर्देश दिए हैं। उनके निर्देश का अनुपालन करते हुए सचिव ने कमला देवी के घर पहुंच कर तुरंत सहायता उपलब्ध कराने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है।
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का इस पर विशेष फोकस है कि हिमाचल सरकार सभी वर्गों की अपनी सरकार है। कोई भी नागरिक अपने आप को असहाय न समझे। जरूरतमंद की मदद उसके घर द्वार पर की जाए। मंडी जिला प्रशासन जनकल्याण की इसी सोच से प्रेरणा लेकर काम में लगा है।


बता दें, पधर तहसील की पाली पंचायत की 55 वर्षीय कमला देवी को दूसरे बेटे के जन्म के बाद बीमारी ने ऐसा घेरा कि उनका जीवन एक बिस्तर तक सिमट के रह गया। फिर पति के निधन ने उनका रहा सहा हौंसला भी तोड़ दिया। अब वे 70 प्रतिशत दिव्यांग हैं और पिछले 20 वर्षां से ज्यादा समय से बिस्तर पर ही हैं। कमला के दो बेटे हैं जो पत्थर तोड़ने का काम करते हैं। गरीबी और लाचारी में जी रहा उनका परिवार दो वक्त की रोटी लायक खर्च तो जुटा लेता है पर उनके लिए कमला देवी के ईलाज पर आने वाला खर्च उठा पाना संभव नहीं है।
रेडक्रॉस सोसाइटी के सर्व वालंटियर के माध्यम से जब ये मामला उपायुक्त अपूर्व देवगन के ध्यान में आया तो उन्होंने तुरंत रेडक्रॉस सचिव को कमला देवी के घर जाकर समुचित सहायता की उपलब्धता सुनिश्चित बनाने को कहा।
उपायुक्त ने जिले के पंचायती राज संस्थाओं के सभी जनप्रतिनिधियों से भी आग्रह किया है कि वे इस प्रकार के मामलों में जरूरतमंद लोगों की पहचान करने तथा उन्हें प्रशासन के ध्यान में लाने में सक्रिय सहयोग दें। ताकि हर जरूरतमंद व्यक्ति तक सरकार की योजनाओं का समुचित लाभ पहुंचाना सुनिश्चित किया जा सके।
वहीं, रेडक्रॉस सचिव ओपी भाटिया ने बताया कि कमला को सरकार की विधवा पेंशन मिल रही है। अब उनका आयुष्मान कार्ड बनाने के साथ ही सहारा योजना में भी पंजीकरण कर लिया गया है। इसके अलावा रेड क्रॉस सोसाइटी उन्हें घर से विशेष एंबुलेंस के माध्यम से स्वास्थ्य जांच के लिए अस्पताल लाएगी। उसके उपरांत उनके उपयुक्त इलाज का जिम्मा भी सोसाइटी देखेगी।
उन्होंने बताया कि ऐसे असहाय व निर्धन लोगों की सहायता करने के लिए रेडक्रॉस सोसायटी ने संवेदना कार्यक्रम चलाया है। जिसके अन्तर्गत 123 लाचार लोगों के उनके घर जाकर व्हील चेयर और एल्फा बेड प्रदान किए गए हैं।
वहीं कमला देवी के परिवार ने उनकी स्वास्थ्य देखभाल और सहायता उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू तथा मंडी जिला प्रशासन का आभार जताया है। उनका कहना है कि सीएम की जन कल्याण की सोच उनके जैसे विपदा के मारे अनेक परिवारों के लिए आर्थिक और सामाजिक तौर पर बड़ा संबल है।  
.0.