निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव के लिए व्यय पर्यवेक्षकों का अहम रोल- अपूर्व देवगन

मंडी, 29 फरवरी। लोकसभा चुनावों की तैयारियों को लेकर विपाशा सदन मंडी में सहायक व्यय पर्यवेक्षकों तथा व्यय निगरानी टीम के सदस्यों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया।
 कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी एवं
उपायुक्त मंडी अपूर्व देवगन ने सहायक व्यय पर्यवेक्षकों तथा व्यय निगरानी टीम के सदस्यों को लोकसभा चुनाव-2024 को स्वतंत्र व निष्पक्ष तरीके से सम्पन्न करवाने के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव के लिए व्यय पर्यवेक्षकों का अहम रोल होता है। चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों एवं उम्मीदवारों के निर्धारित सीमा में खर्च करने व्यय पर्यवेक्षक नजर रखते हैं। इसके लिए उनका प्रशिक्षित होना बहुत जरूरी है ताकि वह अपने दायित्वों का सही निर्वहन कर सकें।  


उन्होंने प्रशिक्षण में भाग ले रहे सभी अधिकारियों से कहा कि कार्यशाला में जो फोल्डर उन्हें उपलब्ध करवाया गया है, उसका गंभीरता से अवलोकन करें तथा उस पर निर्वाचन से संबंधित दिए गए दिशानिर्देशों की जानकारी प्राप्त कर लें।  
जिला निर्वाचन अधिकारी ने कार्यशाला में व्यय पर्यवेक्षकों व व्यय निगरानी टीम के कार्यों एवं दायित्वों पर प्रकाश डाला और उन्हें क्या करना एवं क्या नहीं करना चाहिए के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी।
निर्वाचन तहसीलदार राजेश कुमार शर्मा ने कार्यशाला में भाग लेने वाले सभी सदस्यों का स्वागत किया तथा निर्वाचन से संबंधित जानकारी प्रदान की।
प्रशिक्षण कार्यशाला में लगभग 170 सहायक व्यय पर्यवेक्षकों तथा व्यय निगरानी टीम के सदस्यों ने भाग लिया।
कार्यशाला में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सागर चंद, नायब तहसीलदार राजेश कुमार, हरनाम सिंह ने भी भाग लिया।