वर्ष 2023 के लघु शिवरात्रि मेला जोगिंदर नगर में ठेकेदार से बकाया 14 लाख रु न वसूले जाने को लेकर हो जांच।

मेला समिति जोगिंदर नगर के द्वारा वर्ष 2023 में आयोजित लघु शिवरात्रि मेले के दौरान मेला समिति को 14 लाख रुपए के करीब की चपत लगाई है जो की एक भ्रष्टाचार का मामला बनता है तथा इसकी प्रदेश सरकार जांच करवाए। तत्कालीन उपमंडलाधिकारी नागरिक के द्वारा जो वर्ष 2023 में आयोजित लघु शिवरात्रि मेले के दौरान जो मेला ग्राउंड व डोम जिस ठेकेदार को बेचा गया उस से आज एक वर्ष बीत जाने के बाद भी 14 लाख रूपये की बकाया राशि नहीं वसूली गई। ठेकेदार के साथ जान बूझ कर ऐसा समझोता पत्र हस्ताक्षरित किया गया जिस में की नियमों व शर्तों में ढील दी गई उस से कई अधिक आगे बढ़ कर उस ठेकेदार से मेला समाप्त होने पर उसका डोम का सामान भी ले जाने दिया गया। इस प्रकार की कार्यप्रणाणी से तत्कालीन उपमंडलाधिकारी नागरिक व मेला समिति के अध्यक्ष की कार्यप्रणाली शक के दायरे में आती है। यह ठेकेदार को फायदा देने के लिए सब कुछ किया गया ओर मेला समिति को 14 लाख रूपये की चपत लगाई गई। प्रदेश सरकार मामले की

जांच करवाए ओर दोषी अधिकारी से इस राशि को वसूला जाए। पिछले साल मेले के दौरान इस ठेकेदार के द्वारा व्यापारियों से अत्यधिक धन वसूला गया तब बार बार तत्कालीन उपमंडलाधिकारी नागरिक से व्यापारियों ने बार बार निवेदन किया की ठेकेदार को जायज पैसा लेने के निर्देश दिए जाएं परंतु तब तत्कालीन उपमंडलाधिकारी के कानों में जूं तक नहीं रेंगी । छोटे व्यापारियों को भी नहीं बक्शा गया उन से भी मुंह मांगे पैसे वसूली करने दिए गए । लेकिन इस ठेकदार पर तत्कालीन उपमंडलाधिकारी नागरिक ने अपना पूरा आशिर्वाद बनाए रखा । ठेकेदार को मेले की समाप्ति पर 14 लाख रूपये दिए बिना ही सामान के साथ जाने दिया गया कहीं न कहीं भ्रष्टाचार को दर्शाता है । प्रदेश सरकार से इस हुए लाखों रूपये के भ्रष्टाचार की मांग को लेकर 11 मार्च को उपमंडलाधिकारी नागरिक जोगिंदर नगर के कार्यालय के बाहर धरने पे बैठा जायेगा।