साहसिक, धार्मिक तथा प्राकृतिक पर्यटन को किया जाएगा विकसित: बाली

साहसिक, धार्मिक तथा प्राकृतिक पर्यटन को किया जाएगा विकसित: बाली

साहसिक, धार्मिक तथा प्राकृतिक पर्यटन को किया जाएगा विकसित: बाली भविष्य में सालाना पांच करोड़ पर्यटकों के स्वागत का लक्ष्य किया निर्धारित टूरिज्म फाउंडेशन डे पर पर्यटन से जुडे़ कारोबारियों को दी शुभकामानाएं धर्मशाला, नगरोटा, 01 सितंबर। पर्यटन निगम के अध्यक्ष, कैबिनेट रैंक आरएस बाली ने टूरिज्म फाऊंडेशन डे के उपलक्ष्य पर पर्यटन विभाग के अधिकारियों तथा पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि राज्य सरकार हिमाचल में पर्यटन की अपार संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए साहसिक, धार्मिक एवं प्राकृतिक पर्यटन अधोसंरचना को विकसित करने के दृढ़ प्रयास कर रही है और भविष्य में सालाना पांच करोड़ पर्यटकों के स्वागत का महत्त्वाकांक्षी लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य की पूर्ति के लिए, राज्य सरकार जिला कांगड़ा को प्रदेश की पर्यटन राजधानी के रूप में विकसित कर रही है। इसके लिए सरकार ने 3000 करोड़ रुपये की एक महत्त्वाकांक्षी योजना भी तैयार की है। इस योजना के तहत सड़क और हवाई संपर्क सुविधाओं को सुदृढ़ करना सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल हैं। पर्यटन संबंधी अधोसंरचना को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से सरकार कांगड़ा हवाई अड्डे के विस्तार और सभी जिलों में हेलीपोर्ट स्थापित करने पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है।आरएस बाली ने कहा कि हिमाचल की पर्यटन दृष्टि के केंद्र में इसकी निरंतरता निहित है और राज्य सरकार का लक्ष्य सुरक्षित और प्रदूषण मुक्त वातावरण सुनिश्चित करते हुए हरित पर्यटन को बढ़ावा देना है। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार एवं स्वरोजगार के अवसर भी सृजित होंगे। पर्यटन क्षेत्र प्रदेश की आर्थिकी की रीढ़ है और इसके माध्यम से प्रदेश के हजारों परिवारों को प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से आजीविका प्राप्त होती है।उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे के विकास और अपनी प्राकृतिक सुंदरता को और बेहतर ढ़ंग से प्रदर्शित करने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए नई प्रतिबद्धता के साथ, हिमाचल प्रदेश एक उत्कृष्ट वैश्विक पर्यटन स्थल बनने की राह पर अग्रसर है। दूर-दूर से यात्री यहां के मनमोहक नजारों का आनन्द लेने आते हैं, जिससे प्रदेश के पर्यटन उद्योग का भविष्य पहले से कहीं अधिक उज्ज्वल नजर आता है।

नशे से दूर रहकर युवा पीढ़ी सशक्त समाज का करे निर्माण: बाली नगरोटा को शिक्षा का हब बनाने में स्व जीएस बाली का अमूल्य योगदाननगरोटा बगबां, 01 सितंबर। नशे से दूर रहकर युवा पीढ़ी सशक्त समाज का निर्माण सुनिश्चित कर सकती है। युवाओं को पढ़ाई के साथ साथ समाज सेवा के प्रकल्पों में भी बढ़ चढ़ कर भाग लेना चाहिए। यह उद्गार पर्यटन निगम के अध्यक्ष कैबिनेट रैंक आरएस बाली ने शुक्रवार को नगरोटा बगबां के ओबीसी भवन में एनएसयूआई द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि नगरोटा बगबां क्षेत्र को शिक्षा का हब बनाने में विकास पुरूष जीएस बाली का अमूल्य योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि नगरोटा बगबां क्षेत्र में महाविद्यालयों से लेकर इंजीनियरिंग कालेज तक विकास पुरूष स्व जीएस बाली ने खुलवाए हैं ताकि युवाओं को शिक्षा के बेहतर अवसर मिल सकें इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी सरकारी शैक्षणिक संस्थान खुलवाए गए हैं। आरएस बाली ने कहा कि युवाओं को बेहतर शैक्षणिक सुविधाओं के साथ साथ रोजगार के अवसर भी उपलब्ध करवाए जाएंगे इस के लिए नगरोटा बगबां में विकास पुरूष जीएस बाली के जन्म दिन पर रोजगार मेला भी आयोजित किया गया है तथा भविष्य में वर्ष में दो बार रोजगार मेले आयोजित किए जाने का निर्णय भी लिया है तथा पांच वर्षों में नगरोटा बगबां क्षेत्र के पांच हजार युवाओं को रोजगार दिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।इस अवसर पर एनएसयूआई नगरोटा वगवां के छात्रों ने पर्यटन निगम के अध्यक्ष के समक्ष कॉलेज में एमए और एमसीसी की विभिन्न विषयों की कक्षाएं आरंभ करने की मांग भी रखी। इस दौरान आरएस बाली ने कॉलेज की आपदा प्रभावित छात्रा मुस्कान को अपनी तरफ से पंद्रह हजार रूपये की आर्थिक मदद भी प्रदान की। उल्लेखनीय है कि मुस्कान का पारिवारिक मकान आपदा के दौरान क्षतिग्रस्त हो गया है जिसकी मरम्मत का कार्य चल रहा है इसी कारण से मुस्कान की पढ़ाई प्रभावित हो रही है, मुस्कान की पढ़ाई बाधित न हो इसी को ध्यान में रखते हुए किराये का मकान लेेने के लिए यह 15 पंद्रह हजार की राशि आरएस बाली द्वारा दी गई है। इस कार्यक्रम में एनएसयूआई वगवां नगरोटा कॉलेज के अध्यक्ष कपिल, उपाध्यक्ष अनिकेत और एनएसयूआई के सदस्य छात्र तथा नगरोटा शहरी इकाई के उपाध्यक्ष नीरज दुसेजा तथा ब्लाक कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रताप कराड़ भी उपस्थित थे।